Online Classes के नुकसान सामने आई HRD की नई Guidelines 2020

1
online classes
Share With Your Friends :-

स्कूलों की Online Classes को लेकर पिछले काफी समय से अभिभावकों द्वारा उठाई जा रही चिंताओ को लेकर एस विषय

में HRD मंत्रालय की ओर से एक गाइडलाइन सामने आई है जिसमे कुछ विशेष दिशा-निर्देशों को तय किया गया है|

 

Covid-19 महामारी के बाद बच्चे अब Online Classes ले रहे है क्योकि लॉकडाउन के चलते करीब पिछले 4 महीने से स्कूल और कॉलेज इसके अलावा सभी शिक्षण संस्थान बंद पड़े है लेकिन अब Online classes के जरिय बछो को पढाया जा रहा है|

online classes

 

अभिभावकों की चिंता के गौरतलब यह है की घंटो घंटो मोबाइल और कंप्यूटर के सामने बैठने से बच्चो की आँखों और उनके दिमक पर इसका सीधा असर हो रहा है|डॉक्टरों और विशेषग्यों की माने तो यह बच्चो के लिए घातक सिद्ध हो सकता है आगे चलकर बच्चो के नजर कमजोर हो सकती है और उन्हें स्ट्रेस और हाइपरटेंशन का भी सामना करना पड़ सकता है|

 

इन्ही सब बातो को मद्देनजर रखते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय के दिशा-निर्देशों में इन सभी बातो का खूब ख्याल रखा गया है और बच्चो की सेहत का ध्यान रखते हुए बच्चो की online classes के सत्रनिर्धारित किये गए है जिसके अनुसार बच्चे अपनी पढाई कर सकेंगे|

अभिभावकों की चिंताओ को देखते हुए सरकार ने “प्रगति” नामक दिशा-निर्देश जारी किये है इन सभी को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया है|

 

इसे भी पढे-सुकन्या समृद्धि योजना क्या है ?

प्री-प्राइमरी छात्र-छात्राओं के लिए

मानव संसाधन विकास मंत्रालयकी तरफ से प्री-प्राइमरी classes के बच्चो के लिए online classes की अवधि केवल 30 मिनट की रहेगी|

कक्षा 1 से 8 तक के बच्चो के लिए 

कक्षा 1 से 8 तक के सभी बच्चो के लिए मंत्रालय की ओर से 45 मिनट के 2 सत्र निर्धारित किये गये है|

 9 से 12 तक के बच्चो के लिए

कक्षा 9 से 12 तक के सभी बच्चो के लिए 30-45 मिनट के 4 सत्र निर्धारित किये गये है इन्ही अवधि के दौरान बच्चे अपनी online classes ले सकते है|

online classes

इसे भी पढे-What is Elyments app ?

Covid-19 के चलते स्कूलों को बंद किया गया है ऐसे में देश के करीब 240 मिलियन से अधिक बच्चे कोरोना महामारी के चलते पढाई से प्रभावित हुए है|नई गाइड लाइन जारी करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा की एस कोरोना महामारी के प्रभाव को कम करने के लिए हमे अब बच्चो की शिक्षा के लिए इस महामारी के बीच ही बच्चो की बेहतर शिक्षा का प्रबंध करना होगा|

 

उन्होंने कहा की दिशा निर्देशों के अनुसार बच्चो को भी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है हमे ऑनलाइन शिक्षा और डिजिटल शिक्षा की राह पर चलते हुए बच्चो के उज्जवल भविष्य के लिए बेहतर विकल्प खोजने होंगे और उन्हें बच्चो के लिए लागू करना होगा|

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here